जिले के विभिन्न धार्मिक स्थलों पर निषेधाज्ञा लागू

0
149

प्रजापति मंथन : झालावाड़। सीमावर्ती राज्य मध्यप्रदेश के भोपाल एवं उज्जैन में डेल्टा प्लस घातक वैरीयेन्ट पाए जाने पर कोविड-19 के संक्रमण फैलने की संभावनाओं के मद्देजनर नागरिकों के स्वास्थ्य की सुरक्षा एवं लोक परिशान्ति बनाए रखने की दृष्टि से वर्तमान स्थिति के आंकलन के मद्देनजर इस खतरे से निवारण एवं बचाव के लिए शीघ्र उपचार किया जाना वांछनीय है।

इस सन्दर्भ में जिला कलक्टर एवं जिला मजिस्टेªेट हरि मोहन मीना द्वारा दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के अंतर्गत प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए जिले के नगरीय क्षेत्र झालावाड़, झालरापाटन, भवानीमण्डी, पिड़ावा, अकलेरा, उपखण्ड मुख्यालय असनावर, तहसील मुख्यालय गंगधार, बकानी, सुनेल, डग, रायपुर एवं धर्मिक स्थलों यथा कामखेड़ा बालाजी, गागरोन दरगाह, कायावर्णेश्वर महोदव, पार्श्वनाथ तीर्थ पेढ़ी, चांदखेड़ी जैन मंदिर परिसर की सीमा में निषेधाज्ञा लागू की गई है।

उक्त धार्मिक स्थलों के परिसर में स्थित दुकानें तब तक नहीं खुलेंगी जब तक राज्य सरकार द्वारा धार्मिक स्थल खोलने के आदेश जारी नहीं कर दिए जाते हैं। किसी भी प्रकार के सार्वजनिक, सामाजिक, राजनैतिक, खेलकूद संबंधी मनोरंजन, शैक्षणिक, सांस्कृतिक एवं धार्मिक समारोह, जुलूस, त्यौहार, मेलों, हाट बाजार की अनुमति नहीं होगी। धार्मिक स्थलों पर प्रबंधन द्वारा नियमित पूजा अर्चना, इबादत, प्रार्थना आदि जारी रहेगी किंतु धार्मिक स्थल श्रृद्धालुओं, दर्शनार्थियों के लिए बंद रहेंगे। उक्त धार्मिक स्थलों पर व्यक्तियों के आवागमन एवं एकत्रित होने पर प्रतिबंध रहेगा। सामूहिक भोज, गोठ, सवामणि पर भी प्रतिबंध रहेगा।

यदि कोई व्यक्ति उपर्युक्त प्रतिबंधात्मक आदेशों का उल्लंघन करेगा, तो वह भारतीय दंण्ड संहिता की धारा 188, 269, 270 एवं राजस्थान महामारी अधिनियम 1957, आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 तथा अन्य सुसंगत विधिक प्रावधानों के अंतर्गत अभियोजित किया जा सकेगा। यह आदेश 31 जुलाई, 2021 तक प्रभावी रहेगा।