कम्प्यूटर सांइस की दुनिया में कदम बढ़ाये समाज की भावी पीढ़ी

0
879

जैसा कि हम सभी को विदित है कि कक्षा 12 के परिणाम लगभग आ चुके हैं और 10वीं के कुछ आ गए होंगे या आ जाएंगे। क्या ऐसे सभी बच्चों के माता पिता जो अपने बच्चों को आगे उसी परंपरागत कोर्स कराएंगे या फिर आधुनिक श्रेणी वाले कोर्स की तरफ भी बढ़ेंगे। मेरी सलाह तो यही रहेगी कि परंपरागत कोर्सेज की तरफ से थोड़ा हटकर वर्तमान समय में जो आधुनिक युग की रिटायरमेंट है। उसकी तरफ थोड़ा ध्यान दें, विचार करें। संबंधित विद्वानों से काउंसलिंग करें। इस को पहचाने और फिर उसी हिसाब से अपने बच्चों का कैरियर सेट करने की तरफ बढ़ते हुए आधुनिक आवश्यकता वाले कोर्सेज में दाखिला करावे।

मैं ऐसे सभी समाज बंधुओं से निवेदन करूंगा कि कृपया वह आगे आए और काउंसलिंग में सहयोग करें। जैसे हमारे समाज के ऐसे कितने बंधुवर है जो कंप्यूटर की अधिकतर जानकारी रखते हैं। सॉफ्टवेयर की अधिकतर जानकारी रखते हैं और कोडिंग के मामले में जानकारी रखते हैं और कुछ क्षेत्र में एक्सपर्ट भी है। कृपया वह एक बार जरूर बताएं की वेब सॉफ्टवेयर कोडिंग या कंप्यूटर से संबंधित जो भी जानकारी में एक्सपर्ट हो वह कृपया अपना परिचय जरुर देवें यह समाज हित में ऐसे सब लोगों की आवश्यकता होगी।

ध्यान देवें वर्तमान समय में जो आधुनिकता की तरफ पूरा विश्व बढ़ रहा है, कंप्यूटराइजेशन हो रहा है। उसके अनुसार सॉफ्टवेयर, वेबसाइट डेवलेपर, एप डेवलपर और कोडिंग एक बहुत अच्छा कैरियर साबित होगा और इसमें भारत में ही इन सब चीजों की आने वाले समय में हद से ज्यादा आवश्यकता होने वाली है। आप देखो कितने एडवांस टेक्नोलॉजी आ रही है। कुछ दिनों बाद में बिना ड्राइवर की गाडय़िां होगी। रोबोट होंगे, प्रत्येक चीज में इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस कंप्यूटराइज किया जाकर उसको एडवांस बनाया जाएगा। आप सोचिए यह सब होने वाला है तो कोडिंग के क्षेत्र में सॉफ्टवेयर वेबसाइट के क्षेत्र में कितना बड़ा बदलाव और कितनी बड़ी संख्या में रिक्वायरमेंट होगी, आप सोच नहीं सकते।

इसलिए उपरोक्तक्षेत्र में सोचते हुए इससे संबंधित जानकारों से सलाह मशवरा करके, काउंसलिंग करके और इस क्षेत्र की तरफ अपने बच्चों का दाखिला इन कोर्सेज में कराने का विचार जरूर करें। मेरे हिसाब से इन सभी कोर्सेज मे समाज के कुछ गिने गिने चुने लोगों को छोड़ दें तो समाज में कोई नहीं होगा। एक ऐप बनाने के 5 से 10 लाख रूपये तक मिलते हैं। कंपनियों में 30 -30 लाख का 50 -50 लाख का पैकेज मिलता है। बहुत बड़ा स्कोप है। आधुनिकता की तरफ चलो, आधुनिकता से जुड़े, तभी ही आगे बढ़ेंगे। परंपरागत कार्य जो कर रहे हैं वह करते रहेंगे।

विशेष रूप से भारत में तो इसका वास्तव में इतना बड़ा स्कोप है कि आप अंदाजा नहीं लगा सकते। क्योंकि दुनिया में गिने चुने देशों के पास ही सूपर कम्प्यूटर है। टेक्नॉलोजी की रफ्तार बहुत तेजी से बड़ रही है। ऐसे में हमें भी इस ओर विचार करना होगा, इसके साथ बढऩा होगा। अपने बच्चों को इस क्षेत्र में आगे बढ़ाने का प्रयास करें। खुद का व्यापार भी करेंगे तो लाखों कमाएंगे। हासिल करेंगे तो लाखों रुपए में पैकेज पर नौकरी प्राप्त होगी। बाकी आप लोगों से मेरा तो इतना ही निवेदन है कि जितना जानकारी दे सकता था कोशिश की है। इस क्षेत्र के एक्सपर्ट से इस बारे में और जानकारी ले सकते है।

गिरिराज प्रसाद प्रजापति
एडवोकेट, राजस्थान हाईकोर्ट, जयपुर